विश्व पर्यावरण दिवस समुद्र में प्रदूषण पर राजा ने चिंता जताई

 कांशीराम का परिवार फिर हाईकोर्ट जाएगा

कांशीराम का इलाज अपनी देखरेख में कराने के लिए सोमवार को एक बार फिर उनके परिजन दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। इसके साथ ही परिवार ने बसपा नेता को आठ महीने तक एक निजी अस्पताल में बंधक बनाए रखने की सीबीआई से जांच करने की मांग की है। परिवार ने दावा किया है कि जब तक कांशीराम के इलाज पर बसपा प्रमुख मायावती के नियंत्रण है, वह सुरक्षित नहीं हैं।कांशीराम की ९३ वर्षीय मां बिशन कौर ने अपने दोनों पुत्रों दलबारा सिंह और हरबंस सिंह के साथ शनिवार को पत्रकारों से कहाकि उन्हें अपने बेटे के जीवन को लेकर आशंका है। इस मौके पर दलबारा सिंह ने कांशीराम को इतने लंबे समय तक अस्पताल में रखे जाने के कारणों की जांच कराने की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि हमें संदेह है कि उन्हें नशीले दवाइयां दी जा रही हैं ताकि वे हमसे संपर्क न कर सकें।


विश्व पर्यावरण दिवस समुद्र में प्रदूषण पर राजा ने चिंता जताई, लोगों को आगाह किया

केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री ए. राजा ने समुद्रों में बढ़ते प्रदूषण पर गहरी चिंता जताई है। राजा ने इस खतरे से लडऩे के लिए समाज के सभी तबके के लोगों का समर्थन मांगा है। विश्व पर्यावरण दिवस पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए राजा ने कहा कि समुद्रों में फैल रहे प्रदूषण के कारण प्रत्येक साल लाखों की सं2या में समुद्री चिडिय़ों, कछुओं और अन्य स्तनधारी प्रणियों की मौत हो रही है। उन्होंने कहा कि विश्व में ४० फीसदी से अधिक आबादी समुद्रतटों के ६० किलोमीटर के दायरे में रहती है। यह सं2या दिनोंदिन बढ़ती ही जा रही है। नतीजतन, यह समस्या भविष्य में और गंभीर हो सकती है।राजा ने सरकारों, उद्योगपतियों व आम जनता से समुद्रों का आदर करने का अनुरोध करते हुए कहा कि पृृथ्वी पर जीवन की उत्प8िा समुद्र से ही हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार अपने स्तर पर देश में पर्यावरण व प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए हर तरह की कोशिश कर रही है। लेकिन इसमें तब तक सफलता नहीं मिल सकती जब तक इसके लिए समाज के सभी तबकों का सहयोग प्राप्त न हो।

कार्यक्रम की अध्यक्षता केंद्रीय वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री नमो नारायण मीणा ने की। इस अवसर पर समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि समुद्र को प्रदूषण से बचाने व समुद्री जीवों के संरक्षण के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं। मंत्रालय के राष्ट्रीय पर्यावरण जागरुकता अभियान के माध्यम से देश भर के स्कूली बच्चों में पर्यावरण के प्रति जागरुकता पैदा की जा रही है। इस अवसर पर जानेमाने वैज्ञानिक एवं सीएसआईआर के पूर्व महानिदेशक ए.पी. मित्रा ने कहा कि समुद्र का मानव जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव है।

बिहार में ११ मजदूरों की हत्या

बिहार के नालंदा जिले के दिनार गांव में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक ईंट भट्ठे के मालिक व ११ मजदूरों की हत्या कर दी। हमले में तीन अन्य मजदूर गंभीर रूप से ज2मी हो गए। पुलिस ने इसे व्वासायिक रंजिश का मामला बताते हुए एफआईआर दर्ज कर ली है। पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। रेल मंत्री व राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने घटना पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि यह दो ईंट-भट्ठा मालिकों की आपसी रंजिश का नतीजा है। उन्होंने कहा कि अभियु1तों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।नालंदा के पुलिस अधीक्षक अमित लोढ़ा ने बताया कि भारी मात्रा में हथियारों व गोला-बारूद से लैस एक दर्जन हमलावरों ने शुक्रवार रात ईंट भट्ठे पर धावा बोल दिया। अंधाधुंध फायरिंग में भट्ठा मालिक कामता प्रसाद और आठ मजदूर मौके पर ही मारे गए। जबकि तीन अन्य ने अस्पताल ले जाते व1त और इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। गोलियां लगने से गंभीर रूप से ज2मी तीन मजदूरों को इलाज के लिए पटना मेडिकल कालेज अस्पताल भेजा गया है।

लोढ़ा ने बताया कि हमले के पीछे ईंट भट्ठा को लेकर विवाद सामने आया है। उन्होंने बताया कि कामता के भट्ठे के नजदीक के ही एक अन्य भट्ठा मालिक समेत पांच लोगों को हिरासत में ले लिया गया है। दूसरी ओर पुलिस सूत्रों के हवाले से एक अन्य एजेंसी की खबर के मुताबिक यह वारदात विपिन चौधरी गिरोह ने अंजाम दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक हमलावरों ने सभी को एक लाइन में खड़ा करके अंधाधुंध गोलियां चलाई। इसके बाद आरोपियों ने लूटपाट भी की। इस दौरान महिलाओं को एक कमरे में बंद कर दिया गया था। मारे गए लोगों में से एक अमर प्रसाद उ8ार प्रदेश के इलाहाबाद जिले का निवासी था।

लोढ़ा व अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौके पर कैंप कर रहे हैं। विशेष टास्क फोर्स के जवान आरोपियों की तलाश में छापामारी कर रहे हैं। गोरखपुर से लालू ने एक टीवी चैनल को बताया कि वह राज्य मंत्रिमंडल से पीडि़तों को मुआवजा देने की मांग करेंगे। कानून व व्यवस्था के संबंध में उन्होंने कहा कि इसके ध्वस्त होने जैसी कोई बात नहीं है।


Reactions

Post a Comment

0 Comments