कावेरी जल विवाद पर केंद्र से दखल का आग्रह


स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराना शीर्ष वरीयता : रामदास

यूनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस सरकार की प्रमुख वरीयता स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना है। सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि किसी भी व्य1ित की उचित इलाज के अभाव में मौत न हो। राष्ट्रीय फाइलेरिया दिवस के मौके पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अंबामणि रामदास ने यह बात कही। फाइलेरिया नियंत्रण के तीन दिन के अभियान की शुरुआत करते हुए रामदास ने कहाकि केंद्र यह सुनिश्चित करेगा कि देश का कोई भी नागरिक उचित इलाज के अभाव में न मरे। पद ग्रहण करने के बाद राज्य के दौरे पर आए रामदास ने दीप प्रजज्वलित करने के बाद यहां मौजूद लोगों को हैरान करते हुए उन्होंने फाइलेरिया की पहली खुराक खुद ली। उन्होंने कहाकि यह लोगों को बताने के लिए है कि यह दवाइयां सुरक्षित हैं। इसके साथ ही महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री दिग्विजय खानविलकर और अन्य स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी दवाई की टेबलेट लीं।

कावेरी जल विवाद पर केंद्र से दखल का आग्रह किया अन्नाद्रमुक व द्रमुक ने की मांग कर्नाटक से पानी दिलाए सरकार

कावेरी डेल्टा के किसानों की सिंचाई आवश्यकता की गंभीरता को देखते हुए तमिलनाडु में स8ााधारी अन्नाद्रमुक के साथ विपक्ष भी सक्रिय हो गया है। उन्होंने शनिवार को अपने प्रयासों में तेजी लाते हुए केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वह कर्नाटक से कावेरी नदी में पानी छुड़वाए।द्रमुक, कांग्रेस समेत राज्य के विपक्षी गठबंधन व वामपंथी पार्टियों ने इस मसले पर १० जून को कर्नाटक के मु2यमंत्री धरम सिंह से मिलने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल भेजने का फैसला किया है। जबकि राज्य की मु2यमंत्री जयललिता ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अपील की है कि कावेरी नदी प्राधिकरण की बैठक बुलाई जाए ताकि कावेरी जल विवाद ट्रि4यूनल के अंतरिम आदेश के पालन के संदर्भ में विचार-विमर्श हो सके। जयललिता ने इस मसले पर प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखा है। उधर; द्रमुक, कांग्रेस, पीएमके, एमडीएमके और वामदलों ने तय किया कि तमिलनाडु से स5ाी सांसद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से ७ या ८ जून को मुलाकात करेंगे। सांसद उनसे अपील करेंगे कि कर्नाटक से पानी जल्द जारी कराया जाए ताकि कुरवई धान की फसल बर्बाद न होने पाए।

द्रमुक अध्यक्ष एम करुणानिधि ने अपने गठबंधन के नेताओं की बैठक के बाद पत्रकारों को बताया कि तमिलनाडु के किसानों को समय से पानी हासिल हो इसके पहले प्रयास के तहत पूर्व मंत्री दुरई मुरुगन को बंगलोर भेजा जा रहा है। जल बंटवारे का फैसला लागू कराने के लिए दबाव बनाने के सवाल पर करुणानिधि ने कहा कि मामले को जटिल बनाने से बचा जाना चाहिए। हमारी पहली और तात्कालिक प्राथमिकता जरूरतमंद किसानों को पानी मुहैया कराना है। प्रधानमंत्री को जयललिता के पत्र के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यदि इससे हमारी मुहिम को बल मिलता है तो स्वागत है।

तमिलनाडु के मेट्टूर में बना स्टेनली जलाशय राज्य में कावेरी का मु2य संग्रहण क्षेत्र है और पानी की कमी के कारण इसे दो साल से निर्धारित तिथि १२ जून को नहीं खोला जा सका है। कर्नाटक के पानी न छोडऩे की वजह से जलाशय में इसकी कमी है।

मीरवायज के चाचा के इलाज को टीम भेजी

हुर्रियत कांफ्रेंस के साथ तीसरे और महत्वपूर्ण दौर की वार्ता शुरू होने से पहले केंद्र ने कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेता मीरवायज उमर फारूक के चाचा मौलवी मुश्ताक के इलाज के लिए विशेषज्ञों का एक दल श्रीनगर भेजा है। २९ मई को एक आतंकवादी हमले में घायल होने के बाद मुश्ताक की शुक्रवार को हालत बिगडऩे गई थी। सरकारी सूत्रों के अनुसार गृह मंत्री शिवराज पाटिल की सिफारिश पर चिकित्सकों का दल श्रीनगर भेजा गया है।सूत्रों ने कहाकि परेशानी के समय मीरवायज और उनके परिवार को हर संभव मदद दी जाएगी। उन्होंने कहाकि केंद्र अलगाववादी संगठनों को यह संदेश देना चाहता है कि वह उनके सुखी जीवन के लिए गंभीर और स्वाभाविक रूप से चिंतित है। सूत्रों ने कहा कि केंद्र सरकार अटल बिहारी वाजपेयी नेतृत्व वाली राजग सरकार की ओर से शुरू की गई वार्ता प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में पूरी तरह प्रतिबद्ध है। 

उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह नेतृत्व वाली यूनाइटेड प्रोग्रेसिव एलायंस सरकार यह नहीं चाहती है कि राज्य में हिंसक वारदात और आतंकवादियों के हमले शांति प्रक्रिया में किसी तरह बाधक बने। आवामी ए1शन कमेटी के संस्थापक सदस्य और सेवानिवृत नौकरशाह मुश्ताक २९ मई को एक आतंकवादी हमले में घायल हो गए थे। मुश्ताक श्रीनगर के राजौरी कदाल इलाके में एक मसजिद में नमाज अदा कर रहे थे, तब आतंकवादियों ने उन्हें अपना निशाना बनाया। ६१ वर्षीय मुश्ताक के गले में गोलियां लगी थी और उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भरती कराया गया।

Reactions

Post a Comment

0 Comments